NASA posts image of nebula energy, popularly known as the ‘Hand of God’ | अंतरिक्ष में कहां से आया ‘भगवान का हाथ’, NASA ने बताई पीछे की कहानी

नई दिल्ली: अंतरिक्ष के रहस्य सभी को हमेशा से रोमांचित करते आए हैं. इसे लेकर कई तरह की खोज और खुलासे होते आए हैं जिससे आम लोगों को स्पेस के बारे में सटीक जानकारी मिलती है. अब स्पेस एजेंसी नासा ने एक ऐसी फोटो शेयर की है जिसे देखकर हर कोई हैरान है, नेब्युला ऑफ एनर्जी की यह फोटो अंतरिक्ष में किसी हाथ जैसी दिख रही है. इसमें पंजे से लेकर उंगलियों की संरचना उकर कर आ रही है.

क्या है फोटो की सच्चाई?

नासा ने फोटो को इंस्टाग्राम पर शेयर करते हुए लिखा कि इस तस्वीर में गोल्ड की तरह दिखने वाला आकार एनर्जी का एक नेब्युला है जो स्टार के टूटने के बाद बचा रह गया है. पल्सर जिसे PSR B1509-58 नाम से जाना जाता है, ये उसी से फैले पार्टिकल्स हैं और इनका डायमीटर करीब 19 किलोमीटर है जो कि हर सेकंड 7 बार घूम रहा है. साथ ही पृथ्वी से इसकी दूरी करीब 17 हजार प्रकाश वर्ष है.

स्पेस एजेंसी की ओर से जो तस्वीरें जारी की गई हैं वह दो-तीन साल पहले ली गई थीं. हालांकि अब अंतरिक्ष में दिखने वाली ये आकृति बादल कम होने की वजह से धीरे-धीरे गायब हो रही है. नासा की ओर से इसके बारे में डिटेल जानकारी जुटाई गई है. एजेंसी की ओर से कन्फर्म किया गया कि नेब्युला को ‘भगवान का हाथ’ के तौर पर भी जाना जाता है. 

1700 साल पहले बनी आकृति

अंतरिक्ष में यह आकृति करीब 33 लाइट ईयर क्षेत्र में फैली हुई है. वैज्ञानिकों का मानना है कि सुपरनोवा विस्फोट के बाद करीब 1700 साल पहले इस नेब्युला की लाइट पृथ्वी पर पहुंची थी. नासा की ओर से इस बारे में करीब 15 साल पहले स्टडी शुरू की गई थी और तब से लगातार इसकी फोटोज जारी की जाती रही हैं. पिछली तस्वीरों से साफ है कि नब्युला के बादलों का घनत्व लगातार कम है रहा है जिसकी वजह से यह आकृति धुंधली होती जा रही है.

ये भी पढ़ें: यहां मिला नरक का कुआं, अंदर का नजारा देख कांप जाएगी रूह

इस फोटो के सोशल मीडिया पर शेयर होने के बाद यूजर्स काफी ज्यादा उत्साहित हैं. किसी को यह भगवान की शक्ल जैसा देख रहा है तो कोई इस देखकर खुद को सौभाग्यशाली मान रहा है. हालांकि हर कोई प्रकृति के इस करिश्मे को देखकर रोमांचित और हैरान जरूर है. 

Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *