ब्रिटेन के सभी प्रमुख धर्मों में बाल यौन शोषण पाया गया:रिपोर्ट

लंदन. इंग्लैंड में विभिन्न धार्मिक संगठनों और स्थलों में बाल यौन शोषण को लेकर पड़ताल करने वाली एक जांच में बृहस्पतिवार को चौंकाने वाली जानकारी सामने आई. जांच में पाया गया कि कई धार्मिक संगठन शोषण के आरोपों से निपटने में नाकाम रहे. साथ ही पीड़ितों के आरोपों को दबाने के लिए धार्मिक नेताओं ने शक्ति का दुरुपयोग किया. बाल यौन शोषण की स्वतंत्र जांच ने इंग्लैंड और वेल्स में 38 धार्मिक संगठनों में बाल संरक्षण की जांच की, जिसमें बैपटिस्ट, मेथोडिस्ट, इस्लाम, यहूदी, हिंदू, सिख और गैर ईसाई संप्रदाय शामिल रहे. इसने इस साल की शुरुआत में हुई दो सप्ताह की जन सुनवाई के जरिए साक्ष्य एकत्र किए.

स्वतंत्र जांच में आंकड़ों के हवाले से दिखाया गया कि 2015 से 2020 के दौरान सभी ज्ञात संस्थानों में जहां दुर्व्यवहार की सूचना मिली थी, उनमें से 11 फीसदी धार्मिक संगठन या स्थल के भीतर हुए जबकि करीब 10 फीसदी संदिग्ध या तो कर्मचारी थे या फिर एक धार्मिक संगठन से जुड़े थे. हालांकि, स्वत्रंत जांच का कहना है कि ऐसा संभव है कि और मामलों को दबाया गया हो और ”उसके द्वारा सुने गए साक्ष्यों से इसमें कोई शक नहीं है कि अधिकतर धार्मिक स्थलों या संगठनों में बाल यौन शोषण किया गया.”

इसने पाया कि कुछ धार्मिक स्थलों पर बाल यौन शोषण से संरक्षण देने के लिए कोई नीति ही लागू नहीं है, ऐसे में बच्चों को ऐसे स्थानों पर बेहद कम सुरक्षा प्राप्त होती है. रिपोर्ट में कहा गया, ”धार्मिक आस्था वालों के लिए यह स्वीकार करना मुश्किल हो सकता है कि उनके धर्म के सदस्य या धार्मिक नेता दुर्व्यवहार कर सकते हैं.”

सेना में शामिल महिलाएं भी हैं इसका शिकार
कुछ दिनों पहले खबर आई थी कि ब्रिटेन की सेना में अपने करियर के दौरान 64 प्रतिशत पूर्व और 58 प्रतिशत मौजूदा महिला सैनिकों ने छेड़खानी, उत्पीड़न और भेदभाव का तजुर्बा किया है. इतवार को पेश की गई एक नई संसदीय रिपोर्ट में यह बात कही गई है. हाउस ऑफ कॉमन्स की सशस्त्र बलों में महिलाओं पर बनाई गई रक्षा उप-समिति ने अपनी रिपोर्ट ’प्रोटेक्टिंग दोज हू प्रोटेक्ट अस’ ’वीमेन इन द आर्म्ड फोर्सेज फ्रॉम रिक्रूटमेंट टू सिविलियन लाइफ’ में कहा कि रक्षा मंत्रालय (एमओडी) और सैन्य सेवाएं महिला कर्मियों की रक्षा करने और पूरी क्षमता से प्रदर्शन करने में उनकी मदद में विफल रही हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *